जो चोहोगे वो पाओगे – Motivational Kahani

Sukhi Life- जो चोहोगे वो पाओगे - Motivational Kahani

Sukhi Life- जो चोहोगे वो पाओगे – Motivational Kahani

जो चोहोगे वो पाओगे हिंदी मोटिवेशनल कहानी(whatever you want you will get hindi Best Hindi Motivational Kahani):एक गाँव में एक साधु रहता था।जो नदी किनारे बैठ कर हमेशा जोर जोर से बोला करता था “जो चाहोगे वो पाओगे जो चाहोगे वो पवोगे।”

लोग पास के ही सड़क से गुजरते पर कोई उसकी बात पर गौर नहीं करता था और सभी उसको पागल कह कर आगे कि और निकल जाते है।

एक दिन एक युवा वहा से गुजर रहा था और उसने इस साधु की बाते सुनी जो चाहोगे वो पाओगे जो चाहोगे वो पाओगे।यह सुन वह युवा उसके पास जाकर बोला “गुरूजी आप बोल रहे है कि जो चाहोगे वो पाओगे,तो क्या आप सही में मई जो कुछ मागूँगा तो आप देंगे?”

यह सुन साधु बोला “अवश्य बीटा जो तुम चाहते ही वो मे अवश्य दूंगा,पर उस से पहले बताओ की तुम चाहते क्या हो?”

युवा बोला “गुरूजी मुझे बोहोत सारे हीरे मोती चाहिए।मे बोहोत बड़ा हीरो मोती का व्यपारी बनना चाहता हु।क्या आप मुझे हीरे मोती दे सकते है!”

साधु ने अपनी मुठी बांध कर युवा के हथेली पर रख कर बोला “बेटा ये पकड़ो हिरा।इसे अपनी मुठी मई बंद कर लो।इस हीरे की मदद से तुम जितने भी हीरे बनाना चाहते हो उतने हीरे बना सकते हो।लोग इसे समय कहते है।तुम इस समय का कभी दुरूपयोग मत करना।युवा विचार ही कर रहा था की उतनी ही देर में साधु ने युवा के दूसरे हाथ की हथेली पकड़ते हुए बोला यह पकडो मोती इसे लोग अपनी भाषा में धैर्य कहते है।अगर कोई काम में मेहनत करने के बाद तुम्हे सफलता न मिले तो कभी निरास मत होना।हमेशा धैर्य से कम लेना।

यह सुन कुछ दिनों बाद वह युवा किसी बड़े सेठ के यहाँ काम पर लग गया और कुछ दिनों में अपनी ईमानदारी और मेहनत से खुद बोहोत बड़ा व्यापरी बन गया।

दोस्तों,हमारी जिंदगी में समय और धैर्य हीरे मोती के सामान है।जो भी इस समय का सदुपयोग करेगा वह जीवन में जरूर सफल बनेगा।और साथ ही साथ उस काम को करने का आप सभी में धैर्य होना जरुरी है।कोई भी इंसान एक दिन में तेंडुलकर या फिर धोने नहीं बन सकता।धैर्य और समय दो ऐसी चाभी है जो इंसान इसको समझ जाये उसे आपने दुनिया में कुछ भी असंभव नहीं लगेगा।